प्रतापगढ़:- विकास क्षेत्र मांधाता स्थित लाखू पुर निवासी शिव कुमार मिश्र के यहां श्री मद भागवत कथा अमृत बर्षा चल रही हैं।।मानव तन के तरन तारण का र्माग हैं। श्री मद भागवत कथा । इस कथा की आवाज जहां तक पहुचती हैं उस नगरी के मनुष्य पशु पक्षी के कान मे कथा की आवाज से मुक्ति मिल जाती हैं कथा वाचक आचार्य करूणा शंकर कमल जी ।।शिव कुमार मिश्रा के दो पुत्र बबलू पयासी शीलू पयासी क्षेत्र के आये हुए श्रोताओं को ससम्मान सेवा इस बात की गवाही दे रहा हैं।।

सप्ताहिक श्रीमद भागवत गीता में आचार्य करुणा शंकर ओझा कमल जी कथावाचक ने कथा के दौरान भगवान श्री कृष्ण के जन्म होने के पहले बताया कि वासुदेव जी की 7 रानी थी पहली रानी का नाम पर भी था दूसरे का नाम रोहिणी भद्रा हजीरा रोशना देवकी और इला था जब भगवान श्रीकृष्ण पैदा हुए उस दिन शनिवार के मध्य रात्रि थी पैदा होने के जेल के दरवाजे खुल गए पहरेदार सो गए ऊपर से आवाज आई कि उन्हें गोकुल में नंद के यहां पहुंचा । वहां पर देवी कन्या इनका इंतजार कर रही हैं वासुदेव जी महाराज भगवान को नमन करके नंद बाबा के यहां ले जाकर यमुना जी को पार करते हुए वास वहां पर पहुंच गए कथा सुनने के बाद श्रोतागण भावुक हो गए लोग दूर दूर से भागवत गीता में पहुंच रहे हैं इस कथा का श्रवण करने क्षेत्र के कई गांवों की महिला पुरूष ।माता बख्श मिश्र उमापति तिवारी ब्रजभूषण दूबे सूर्य प्रकाश पंडा अर्जुन मिश्रा शिवाकांत दुबे लल्लू मिश्रा सतीश शुक्ला कलावती मंजू गीता सारिका पप्पू दूबे बिनीत पयासी बबलू मिश्रा शीलू मिश्रा लाल चन्द्र प्रधान के साथ सैकड़ों लोग श्रीमद्भागवत गीता का आनंद लिया।