जिंदा जलाई गई किशोरी ने तोड़ा दम एक गिरफ्तार कई हिरासत में

92

लंभुआ (सुलतानपुर) जिले में अपराध इतनी चरम सीमा पर बढ़ गई है कि अपराधी अपराध करने में तनिक भी विचलित नहीं हो रहे हैं और अंजाम को अपना रोजगार मान लिया है घटना है सुल्तानपुर जिले के लंभुआ तहसील की छेड़खानी का विरोध करने पर शुक्रवार को जिंदा जलाई गई किशोरी की इलाज के दौरान जिला अस्पताल में मौत हो गई प्रकरण में मृतका के भाई के तहरीर पर पुलिस ने चार सगे भाइयों समेत पांच लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया है पुलिस ने मुख्य आरोपित समेत कई लोगों को पूछताछ के लिए अपने हिरासत में लिया है एक नामजद को गिरफ्तार भी किया गया है लंभुआ कश्मीर से सटे एक गांव में परिवार के लोग खेत गए थे किशोरी घर में अकेली थी दर्ज रिपोर्ट के मुताबिक पड़ोसी नागेंद्र अजय छेड़छाड़ करने की नियत से घर में घुस गए किशोरी ने इसका विरोध किया तो दोनों भाई लूट गए बाद में दो अन्य भाई विजय कुमार संजय कुमार व पिता पन्नालाल को साथ लेकर आए सबने मिलकर किशोरी की शरीर पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी जिससे किशोरी गंभीर रूप से जख्मी हो गई इस दौरान परिवारी जन हल्ला गुहार सुनकर मौके पर पहुंचे तो आरोपी धक्का देकर भाग निकले थे चिकित्सकों के मुताबिक किशोरी 90 फ़ीसदी तक झुलस गई थी समय से एंबुलेंस व पुलिस भी मौके पर नहीं पहुंची थी परिवारी जन निजी वाहन से किशोरी को अस्पताल ले गए थे शनिवार की भोर में जिला अस्पताल में भर्ती पीड़िता ने दम तोड़ दिया था प्रभारी निरीक्षक आशुतोष मिश्र ने बताया कि नामजद विजय को पुलिस ने देर शाम गिरफ्तार कर लिया है परिवारी जन पोस्टमार्टम कराने के लिए देर रात तक भटकते रहे इस तरह के अत्याचार दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं लेकिन प्रशासन इसमें ठोस कदम नहीं उठा पा रही है यदि प्रशासन इस पर ठोस कदम उठाती तो आज अपराधी इस तरह से अपराध करने में साहस ना जुटा पाते माहौल इतना खराब हो गया है परिवार में किसी स्त्री का या किसी औरत का रहना दुर्लभ हो गया है अत्याचार अपने चरम सीमा पर चल रहा है कलयुग इतना सब को भ्रमित कर दिया है लोग किसी मां बहन को पहचान ही नहीं रहे और अत्याचार को खुलेआम सरे बाजार में उकसा रहे हैं इस घटना से पूरे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है

सुल्तानपुर से बृजेश मिश्रा की रिपोर्ट