देश भर में ऑनलाईन फार्मेसी के विरोध में दवाई विक्रेताओं ने भारत बंद बुलाया

35

डूँगरपुर। ऑलइंडिया ऑर्गेनाइजेशन ऑफ केमिस्ट ऑफ ड्रगिस्टस एसियोशियन ने शुक्रवार को भारत के सभी राज्यो व केंद्र शासिस प्रदेशो के आठ लाख केमिस्ट व दावा विक्रेताओं ने अपनी दुकानें बंद कर काली पट्टी बाद कर विरोध प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। एसोसियेशन के जिला महासचिव वीर प्रकाश जैन ने बताया कि कुछ उद्योग जगत की कंपनियों उपभोक्ताओ को इंटरनेट बेव पोर्टल के माध्यम से दावा विक्रय कर रही है। इस प्रकार दवा बिक्री दवा एवं प्रसाधन कानून 1940 के नियमो का सरासर उल्लंधन है। हमारी देशव्यापी संगठन ए. आइ.ओसीडी द्वारा औषधि नियंत्रण भारत सरकार, दवा प्रशिक्षण सलाहकार बोर्ड के साथ सभी संसद सदस्यों को इसके दुष्परिणाम के बारे में जानकारी दी गई थी। की इस ऑन लाइन ई कॉर्मस वेबसाइटों के जरिये प्रतिबधित दवायो का भी प्रचलन बढेगा जो देश की जनता को घातक व नशीली दवाओं का वितरण बनेगा। औषधि नियंत्रण भारत सरकार व राज्यो के औषधि नियंत्रकों ने यह लिखित में स्वीकार किया है कि इंटरनेट दवा व्ययसाय पुन्नता कानून के विरोध है।
जिसके विरोध में शुक्रवार को आठ लाख केमस्टिक ने एक दिन का दवा व्यवसाय ने पूरे भारत मे अपनी दुकानें बंद रखी है।
नरेश कुमार भोई
मो.9928103850