सपाईयों ने मोमबत्ती जला कर शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को दी श्रृद्धांजली, सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

155

इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश। प्रदेश की बिगड़ी क़ानून व्यवस्था और बुलन्दशहर मे इन्सपेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या से सपाईयों मे उबाल, सुभाष चौराहे पर कैण्डिल जला कर दी गई श्रद्धान्जली।

समाजवादी पार्टी की प्रदेश प्रवक्ता रिचा सिंह व महानगर अध्यक्ष सै०इफ्तेखार हुसैन के नेतृत्व में बड़ी संख्या मे सपाईयों ने सुभाष चौराहे पर एकत्रित हो कर कैण्डिल मार्च निकाल कर बुलन्दशहर में दुस्साहसिक वारदात में शहीद हुए इन्सपेक्टर सुबोध कुमार सिंह को दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धान्जली अर्पित की।

इस दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने सरकार विरोधी नारे लगाए। सुभाष चौराहे पर कैण्डिल मार्च के साथ सभा को सम्बोधित करते हुए प्रदेश प्रवक्ता रिचा सिंह ने प्रदेश की गिरती कानून व्यवस्था पर जम कर भड़ास निकाली । कहा, सरकार में लोकतन्त्र के उपर भीड़तन्त्र हावी है। उन्होंने आरोप लगाया केंद्र वह प्रदेश की सरकार हर मोर्चे पर विफल होने के बाद अब दंगा भड़का कर चुनाव जीतना चाहती है। कहा, इसीलिए तैयार भीड़ ने सुनियोजित तरीक़े से पुलिस पर पथराव कर दिया और भीड़तन्त्र का शिकार इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह हो गए।

महानगर इफ्तेखार हुसैन ने इन्सपेक्टर सुबोध कुमार सिंह को श्रद्धान्जली अर्पित करते कानून व्यवस्था पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह का भीड़तन्त्र के द्वारा मारा जाना यह साबित करता है की कहीं न कहीं अखलाक़ हत्याकाण्ड के जांच को प्रभावित और अपने आप को फंसता देख सुनियोजित तरीक़े से मर्डर कराया गया है। उन्होंने इसकी उच्च स्तरीय जाँच करने की मांग की।

कैण्डिल मार्च एवं विरोध प्रदर्शन मे प्रमुख रुप से योगेश यादव, सबीहा मोहानी, मो०जमाल अफज़ल, सै०मो०अस्करी, इसरार अन्जुम, शाहिद प्रधान, महावीर यादव, राकेश यादव, लाल जी यादव, पिन्टू यादव, मो०मुजीब, औन ज़ैदी, पिन्टू पासी, राबिन लोहिया गिहार, राहूल चंद्रा, शहनवाज़ अहमद, शानू खान, सचिन यादव, सचिन दास, मंजीत हेला, प्रिंस कमलेश, शुभम पुरी, शुशांत चंद्रा प्रधान, रोहित यादव ,बलवन्त यादव तथा जमील अन्सारी आदि मौजूद थे।