पूर्व सीएम अखिलेश यादव द्वारा घोषित जनेश्वर मिश्र गांव के शिलापट को अराजक तत्वों ने तोड़कर गिराया, सपाईयों ने की कार्यवाही की मांग, पढ़ें पूरी खबर

145

अमेठी से राज कुमार जायसवाल की रिपोर्ट।

अमेठी, उत्तर प्रदेश। विधानसभा क्षेत्र अमेठी के गांव ओझा का पुरवा मजरे रायपुर फुलवारी को सपा सरकार में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा जनेश्वर मिश्र गांव घोषित किया गया था। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ में आयोजित समारोह में ओझा का पुरवा गांव का शिलान्यास किया था। रविवार अपराह्न तीन बजे के बाद दो बाइक पर सवार कई अज्ञात युवक गांव पहुंचे और गांव के बाहर लगे शिलापट को तोड़ने लगे। आसपास के लोगों के शोर मचाने पर गांव निवासी सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के पूर्व निजी छायाकार उदयराज यादव मौके पर पहुंचे तो बाइक सवार युवक उदयराज को जान से मारने की धमकी देते हुए फरार हो गए।

अमेठी महिला जिला महासचिव गुंजन सिंह ने मीडिया को बताया कि शिलान्यास पट तोड़े जाने के बाद ग्रामीण आक्रोशित हैं। उक्त मामले में तहरीर देने के बाद भी प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई नहीं हुई। पार्टी द्वेषपूर्ण भावना से अराजक तत्वों द्वारा शिलापट तोड़े जाने की घोर निंदा करती है। कहा, अगर आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो हम धरना प्रर्दशन करने को बाध्य होंगे।

शिलान्यास के पट को अराजक तत्वों द्वारा तोड़े जाने और उनके विरुद्ध कार्रवाई किए जाने के संबंध में जिला महासचिव महिला प्रकोष्ठ गुंजन सिंह ने उपजिलाधिकारी की अनुपस्थिति में तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा।
इस मौके पर दिनेश तिवारी, मक्खन मोदनवाल, सुशील जायसवाल, हिमांशु जायसवाल तथा अवधेश कुमार यादव आदि सैकड़ों सपाई मौजूद रहे।