मिजिल्स रूबेला एवं खसरा टीकाकरण अभियान के सम्बन्ध में बैठक सम्पन्न

प्रतापगढ़ :-मिजिल्स रूबेला टीकाकरण अभियान के अन्तर्गत अब तक जनपद में 2 लाख बच्चों का हुआ टीकाकरण

जिलाधिकारी शम्भु कुमार की अध्यक्षता में कैम्प कार्यालय सभागार में मिजिल्स रूबेला एवं खसरा टीकाकरण अभियान सम्बन्धी बैठक की गयी। बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि 26 नवम्बर 2018 से शुरू हुये मिजिल्स रूबेला अभियान में जनपद में लगभग 12 लाख बच्चों को टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है जिसमें अब तक लगभग 2 लाख बच्चों का टीकाकरण किया गया है। जिलाधिकारी ने बताया कि इस अभियान में 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को एम0आर0 वैक्सीन की एक अतिरिक्त खुराक इन्जेक्शन के द्वारा दी जानी है। यह अभियान प्रथम चरण (लगभग 2 सप्ताह) में जनपद के सभी स्कूलों में चलाया जा रहा है, इसके उपरान्त द्वितीय चरण (लगभग 2 सप्ताह) में यह अभियान समुदाय में चलाया जायेगा। अन्त में तृतीय चरण में (लगभग 1 सप्ताह) में यह अभियान छूटे बच्चों हेतु चलाया जायेगा। उन्होने बताया कि ग्राम प्रधान, ब्लाक प्रमुख, जन प्रतिनिधियों तथा अभिभावकों से मिजिल्स रूबेल टीकाकरण अभियान में सहयोग प्रदान करने की अपील की है।
समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि गत दिवसों में भ्रामक वीडियो, वाट्सअप मैसेज इत्यादि के माध्यम से जनमानस में अभियान के प्रति भ्रान्तियां फैलायी जा रही है जिसके सम्बन्ध में उन्होने बताया कि भारत वर्ष के 21 राज्यों में यह अभियान सफलतापूर्वक सम्पादित किया जा चुका है एवं 09 राज्यों में वर्तमान में अभियान संचालित किया जा रहा है। अब तक 13 करोड़ से अधिक बच्चों को एम0आर0 का टीका लगाया जा चुका है। एम0आर0 टीकाकरण के पश्चात् कुछ बच्चों में मामूली दर्द, इन्जेक्शन के स्थान लालिमा, चुभन, रैश, हल्का बुखार इत्यादि हो सकता है। इसकी देखभाल के लिये स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी हेल्स वर्कर्स, पर्यवेक्षक एवं मेडिकल आफिसर्स इत्यादि को सघन रूप से प्रशिक्षित किया गया है।
बैठक में यह भी जानकारी मिली कि जनपद के समस्त ए0बी0एस0ए0 मिजिल्स रूबेला टीकाकरण अभियान में रूचि नही ले रहे है जिसके लिये जिलाधिकारी ने समस्त ए0बी0एस0ए0 को कड़ी फटकार लगाते हुये कहा कि शासन की महत्वपूर्ण योजना में जो ए0बी0एस0ए0 रूचि नही ले रहे है उनके खिलाफ कार्यवाही की जायें। उन्होने समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि वह अपने अपने क्षेत्रों की सुपरवाइजरों के माध्यम से लोगों को समझायें कि इस टीकाकरण से बच्चों को बीमारियों से बचाया जा सकता है। उन्होने यह भी बताया कि यदि यह टीका प्राइवेट अस्पतालों में लगाया जाता है तो इसका खर्च लगभग 2200 रू0 पड़ेगा जबकि सरकार द्वारा यह टीका बिल्कुल निःशुल्क लगाया जा रहा है।
उन्होने बताया कि यह वैक्सीन पूर्ण रूप से सुरक्षित है। जनपद के समस्त विद्यालयों, आंगनबाड़ी केन्द्रों में यह टीकाकरण अध्यापकों की उपस्थिति में किया जायेगा। किसी भी तरह से अप्रिय घटना की स्थिति में क्षेत्रीय टीकाकरण सुपरवाइजर एवं प्रभारी चिकित्साधिकारी से सम्पर्क किया जा सकता है। इस विषय में अधिक जानकारी के लिये जिला प्रतिरक्षण अधिकारी सी0पी0 शर्मा मो0नं0-9451774764, डब्लू0एच0ओ0, एस0एम0ओ0 डा0 राहुल काम्बले मो0नं0-9838707626 एवं जिला सहायक प्रतिरक्षण अधिकारी महेश कुमार सिंह मो0नं0-9125632891 पर सम्पर्क कर सकते है।
बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ए0के0 श्रीवास्तव, समस्त प्रभारी चिकित्साधिकारी, समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारी, समस्त ए0बी0एस0ए0 सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे।