डेंगू वार्ड में मरीजों को काट रहे मच्छर कोई निजात नहीं

65

सुल्तानपुर: मरीजों को बुखार होने पर जिला अस्पताल में इलाज कराने के लिए पहुंचने वाले मरीज यहां भी सुरक्षित नहीं है लापरवाही का आलम यह है कि जिस डेंगू वार्ड को मच्छर सुरक्षित माना जाता है वहां भी मरीजों को मच्छर काट रहे हैं खिड़कियां टूटी पड़ी है यही हाल आपातकालीन वार्ड का भी है यहां भर्ती बुखार व डेंगू मच्छर काट रहे हैं लेकिन चिकित्सा अधिकारियों को इनकी कोई परवाह नहीं है प्रदेश सरकार से हर जिला अस्पताल में डेंगू मरीजों के लिए अलग वार्ड बनाने का निर्देश हाय जिस में मच्छरों से बचने का पूरा इंतजाम होना चाहिए लेकिन जिला अस्पताल में तो डेंगू वार्ड की खिड़कियां तक टूटी पड़ी है खिड़कियों से वार्ड में पहुंचकर मच्छर मरीजों का खून चूस रहे हैं कुछ ऐसे मरीज जिन्हें सिर्फ बुखार है या जिनकी रिपोर्ट बैटिंग है उन्हें भी मच्छरों की वजह से डेंगू के शिकार होने का खतरा सता रहा है मच्छरों से बचाने का कोई इंतजाम अस्पताल प्रशासन की ओर से नहीं दिख रहा है बदहाली इस कदर है कि जिला अस्पताल में डेंगू जांच होने के बाद भी मरीजों को निजी लैब से जांच कराने को कहा जा रहा है मजबूरी में मरीज अपनी जांच बाहर से मोटी रकम देकर करवा रहे हैं जो मरीज बाहर से जांच नहीं कराते उन्हें सिर्फ अनुमान आधारित दवाई दे रहे हैं यह सब कारनामा चिकित्सा अधिकारियों की नाक के नीचे हो रहा है लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हो रही मरीजों को दवाई भी अस्पताल से नहीं मिल रही डॉक्टर लगातार उन्हें निजी स्टोर से दवाएं लिख रहे हैं ऐसा इसलिए हो रहा है कि डॉक्टर वह अधिकारियों को शासनादेश का ना तो भय है और ना ही जनप्रतिनिधियों का कोई दबाव इस बात की तस्दीक बगल के बेगू से ही पीड़ित कूरेभार के कोहड़ा निवासी अनूप शर्मा भी करते हैं उनका अस्पताल में दूसरा दिन है गुप्तारगंज से आए रोगी का कहना है कि जांच अस्पताल के अंदर कराने के लिए ना तो चिकित्सक सुझाव देते हैं और ना ही वहां कोई करने को तैयार है वह 1 महीने से कूरेभार में बुखार को दवा करा रहा था जब ठीक नहीं हुआ तो बुधवार की सुबह जिला अस्पताल में भर्ती हुआ वहीं कक्ष में भर्ती अन्य मरीजों का कहना था कि 200 ₹200 के इंजेक्शन वे बाहर से खरीद कर ला रहे हैं हजारों रुपए जांच में खर्च हुआ रोगी कच्छ की खिड़कियां टूटी है दिन हो या रात हमेशा मच्छर आते रहते हैं इस तरह की अनदेखी से इलाज करने पर मरीजों का हाल पहले से बुरा है और आगे चलकर और भी बुरा हो सकता है अस्पताल एवं चिकित्सक की लापरवाही से मरीजों को पूरी तरह से इसका फायदा नहीं मिल पा रहा है इस तरह से भ्रष्टाचार दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है उनको प्रशासन का डर है और न भय मरीजों के साथ कठोर लापरवाही देखने को मिल रही है
सुल्तानपुर से बृजेश मिश्रा की रिपोर्ट
मोबाइल नंबर 98 39 28 1931